Yoonhi hamesha-Faiz Ahmad Faiz

Yoonhi hamesha ulajhti rahi hai zulm se khalq

Na unki rasm nayi hai na apni reet nayi

Yoonhi hamesha khilaye hain humne aag mein phool

Naa unki haar nayi hai naa apni jeet nayi 

 

यूँ ही हमेशा उलझती रही है ज़ुल्म से ख़ल्क़ 

ना उनकी रस्म नयी है ना अपनी रीत नयी 

यूँ ही हमेशा खिलाये हैं हमने आग में फूल 

ना उनकी हार नयी है ना अपनी जीत नयी 

~Faiz Ahmad Faiz

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *