chaah ka ilzaam-Faiz Ahmad Faiz

Hum par tumhari chaah ka ilzaam hi to hai

Dushman to nahi hai ye ikraam hi to hai

Karte hain jis pe taan koi jurm to nahi

Shauq e fazool o ulfat e naakam hi to hai

 

हम पर तुम्हारी चाह का इलज़ाम ही तो है 

दुश्मन तो नहीं है ये इकराम ही तो है 

करते हैं जिस पे तान कोई जुर्म तो नहीं 

शौक़ ए फज़ूल ओ उलफत ए नाकाम ही तो है 

~Faiz Ahmad faiz

Phir Hareef e bahaar-Faiz Ahmad Faiz

Phir hareef e bahaar ho bethe

Jaane kis kis ko aaj ro bethe

Thi magar itni raaygan bhi naa thi

Aaj kuchh zindagi se kho bethe 

 

फिर हरीफ़ ए बहार हो बैठे 

जाने किस किस को आज रो बैठे 

थी मगर इतनी रायगां भी ना थी 

आज कुछ ज़िन्दगी से खो बैठे 

~Faiz Ahmad Faiz

Aap Ki Yaad-Faiz Ahmad Faiz

Aap ki yaad aati rahi raat bhar 

Chandni dil dukhati rahi raat bhar 

Gaah jalti hui gaah bujhti hui

Sham e gham jhilmilati rahi raat bhar

 

आपकी याद आती रही रात भर 

चाँदनी दिल दुखाती रही रात भर 

गाह जलती हुई गाह बुझती हुई 

शम ऐ ग़म झिलमिलाती रही रात भर 

~Aamir Wisal

Barson ke baad dekha-Ahmad Faraz

Barson ke baad dekha ek shakhs dilruba sa

Ab zehen mein nahi hai par naam thha bhala sa

 

बरसों के बाद देखा एक शख्स दिलरुबा सा

अब ज़हन में नहीं है पर नाम था भला सा

                                                        ~Ahmad faraz