Raato ke andhero mein

Raato ke andhero mein hum chaand ko takte hai 

Is chaand ka nazara wo bhi to karte honge 

 

रातो के अंधेरो में हम चाँद को तकते हैं 

इस चाँद का नज़ारा वो भी तो करते होंगे 

Kabhi jo hume pyar beshumar karte thhe

 

Kabhi jo hume pyar beshumar karte thhe

Kabhi jo hum per jaan bhi nisaar karte thh

Bhari mehfil mein humko dhokebaaz kehte hain

Kabhi jo khud se zyada hum per aitbar karte thhe

 

कभी जो हमे प्यार बेशुमार करते थे

कभी जो हम पर जान भी निसार करते थे

भरी महफ़िल में हमको धोकेबाज़ कहते हैं

कभी जो खुद से ज़्यादा हम पर ऐतबार करते थे

~Aamir wisal