Painful shayari-pur sukoon lagta hai

Pur sukoon lagti hai kitni jheel ke paani pe bat

Pairon ki betabiyaan paani ke andar dekhiye

Chhodkar gaye thhe aap jisko koi aur thha

Ab mein koi aur hoon wapas to aakar dekhiye

 

पुर सुकून लगती है कितनी झील के पानी पे बत

पैरों की बेताबियाँ पानी के अंदर देखिये

छोड़कर जिसको गए थे आप कोई और था

अब में कोई और हूँ वापस तो आकर देखिये

Painful shayari-kabhi kabhi

Kabhi kabhi mein ye sochta hoon ki mujhko teri talaash kyun hai

Ki jab toote hain saare taar to saaz mein irte-aash kyun hai

Koi agar poochhta ye humse batate gar to hum kya batate

Bhala ho sabka ki ye na poochha ki dil pe aisi kharash kyun hai

 

कभी कभी में ये सोचता हूँ की मुझको तेरी तलाश क्यों है

की जब टूटे है सारे तार तो साज़ में इरतआश क्यों है

कोई अगर पूछता ये हमसे बताते गर तो हम क्या बताते

भला हो सबका की ये न पूछा की दिल पे ऐसी खराश क्यों है