Ab Jo Koi Poochhe-Faiz Ahmad Faiz

Ab jo koi poochhe bhi toh uss se kya sharh-e-haalaat karen,

dil thehre toh dard sunaayen dard thame toh baat karen.

Shaam hui phir josh-e-qadah ne bazm-e-harifaan roshan ki,

ghar ko aag lagaayen hum bhi roshan apni raat karen.

 

Qatl-e-dil-o-jaan apne sar hai apna lahoo apni gardan pe,

mohr-ba-lab baithe hain kis ka shikwa kis ke saath karen.

Hijr mein shab bhar dard-o-talab ke chaand sitaare saath rahe,

subh ki veerani mein yaaro kaise basar auqaat karen.

 

अब जो कोई पूछे भी तो उससे क्या शरह ए हालात करें 

दिल ठहरे तो दर्द सुनाएँ दर्द थमे तो बात करें 

शाम हुई फिर जोश ए कदा ने बज़्म ए हारीफ़ा रोशन की 

घर को आग लगाएं हम भी रोशन अपनी रात करें 

 

क़त्ल ए दिलो जान  सर है अपना लहू अपनी गर्दन पे 

मोहर बा लब बैठे हैं किस का शिकवा किसके साथ करें 

हिज्र में शब् भर दर्द और तलब के चाँद सितारे साथ रहे 

सुबह की वीरानी में यारो कैसे बसर औक़ात करें 

~Faiz Ahmad Faiz