Udas hai dil narazgi shayari

Udas Hai Dil aur Ankho Me Nami Hai,

Jaise Rutha Hai Asman aur Khamosh Ye Zami Hai,

Yad Na Karne Ki Koi To Waja Batao,

Naraz Ho ya Waqt Ki Kami Hai.

Udas hai dil narazgi shayari

उदास है दिल और आँखों में नमी है

जैसे रूठा है आसमान और खामोश ये ज़मी है

याद ना करने की कोई तो वजह बताओ

नाराज़ हो या वक़्त की कमी है

Naraz ho kar yoon

Naraz ho kar yoon dekha karo na mujhko 

Hum dost hain tumhare dushman nahi hain hum

 

नाराज़ होकर यूं देखा करो ना मुझको 

हम दोस्त हैं तुम्हारे दुश्मन नहीं हैं हम