chaah ka ilzaam-Faiz Ahmad Faiz

Hum par tumhari chaah ka ilzaam hi to hai

Dushman to nahi hai ye ikraam hi to hai

Karte hain jis pe taan koi jurm to nahi

Shauq e fazool o ulfat e naakam hi to hai

 

हम पर तुम्हारी चाह का इलज़ाम ही तो है 

दुश्मन तो नहीं है ये इकराम ही तो है 

करते हैं जिस पे तान कोई जुर्म तो नहीं 

शौक़ ए फज़ूल ओ उलफत ए नाकाम ही तो है 

~Faiz Ahmad faiz

Love shayari-Dua Rab Se

Love shayari-Dua rab se

Dua rab se hai meri kabhi tujhse na door jaaun mein

Mohabbat itni kar mujhse ki duniya bhool jaaun mein

 

दुआ रब से है मेरी कभी तुझसे ना दूर जाऊं में 

मोहब्बत इतनी कर मुझसे की दुनिया भूल जाऊं में 

 ~Aamir Wisal