Sad shayari-Khamoshi teri jeene

Khamoshi teri jeene nahi deti bahut satati hai

Jaana teri yaad jo aati hai mujhko rula jaati hai

Tu mujhse door hai jab bhi ye gumaan karta hoon 

Hazaaro sabab khushi ke phir bhi har taraf maayusi nazar aati hai 

 

ख़ामोशी तेरी जीने नहीं देती बहुत सताती है 

जाना तेरी याद जब भी आती है मुझको रुला जाती है 

तू मुझसे दूर है जब भी ये गुमां करता हूँ 

हज़ारो  सबब ख़ुशी के फिर भी हर तरफ मायूसी नज़र आती है