Painful shayari-kabhi kabhi

Kabhi kabhi mein ye sochta hoon ki mujhko teri talaash kyun hai

Ki jab toote hain saare taar to saaz mein irte-aash kyun hai

Koi agar poochhta ye humse batate gar to hum kya batate

Bhala ho sabka ki ye na poochha ki dil pe aisi kharash kyun hai

 

कभी कभी में ये सोचता हूँ की मुझको तेरी तलाश क्यों है

की जब टूटे है सारे तार तो साज़ में इरतआश क्यों है

कोई अगर पूछता ये हमसे बताते गर तो हम क्या बताते

भला हो सबका की ये न पूछा की दिल पे ऐसी खराश क्यों है

Sad shayari tu mujhe aazma le

Tu mujhe aazma le jitne chahe sitam kar le 

humko hoga na koi gham koi bhi jatan kar le

Aaj zinda hain shayad kal rahe na rahe

Khwahishe jo bhi baqi hai teri aaaj poori kar le

 

तू मुझे आज़मा ले जितने चाहे सितम कर ले 

हमको होगा ना कोई ग़म कोई भी जतन कर ले 

आज ज़िंदा हैं शायद कल रहे ना रहे 

ख्वाहिशे जो भी है तेरी आज पूरी कर ले 

 

Written by : Aamir wisal 

Sad shayari jaan bhi tumhari thhi

 

Tum jaan thhe meri jaan bhi tumhari thhi

Tum milte jo hume kahan kismat hamari  thhi

Jaane ke baad uske roya bahut thha mein

Gham uske jaane ka thha jo jaan hamari thhi

 

तुम जान थे मेरी जान भी तुम्हारी थी 

तुम मिलते जो हमे कहाँ किस्मत हमारी थी 

जाने के बाद उसके रोया बहुत था में 

ग़म उसके जाने का था जो जान हमारी थी 

 

Aamir Wisal