Sad shayari-Armaan chhoot gaye

पहले सहारे, फिर ना उम्मीदे फिर अरमान  भी छूट गए 

ऊपर से तो ज़ख़्मी हुए हम, अंदर से भी टूट गए 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *