Pyar Aankho me jo hai

Pyar aankho me jo hai dikhate kyun nahi

Baat jo labon pe hai batate kyun nahi

Yoon jo mud mud ke dekhte ho tum humko 

Mohabbat karte ho to jatate kyun nahi

 

प्यार आँखों में जो है दिखाते क्यों नहीं 

बात जो लबों पे है बताते क्यों नहीं 

यूं जो मुड़ मुड़ के देखते हो तुम हमको 

मोहब्बत करते हो तो जताते क्यों नहीं 

~ Aamir wisal

Mujhse naaraz tum kaabhi mat hona

Mujhse naaraz tum kabhi mat hona 

Mere hokar kisi ka mat hona

Mar jayenge hum tere bina o sanam

Paas ho mere kabhi door mat hona

 

मुझसे नाराज़ तुम कभी मत होना 

मेरे होकर किसी का मत होना 

मर जायेंगे हम तेरे बिना ओ सनम 

पास हो मेरे कभी दूर मत होना 

~Aamir Wisal

Bas ashq aankho me ab hai baaqi

Bas ashq aankho me ab hai baaqi

Din bhi niklega ummeed hai abhi baaqi

Ishq me humne bade dard sahe hain

Hogi mulaqat bhi ummeed hai abhi baaqi

बस अश्क़ आँखों में अब है बाक़ी

दिन भी निकलेगा उम्मीद है अभी बाक़ी

इश्क़ में हमने बड़े दर्द सहे हैं

होगी मुलाक़ात भी उम्मीद है अभी बाक़ी

~Aamir Wisal

Labon pe tishnagi abhi baaqi hai

Labon pe tishnagi abhi baaqi hai

Dil me teri talab abhi baaqi hai

Tu laut ke aayga kabhi ummeed hai mujhe

Isliye Jism me mere abhi kuchh saans baaqi hai

 

लबों पे तिशनगी अभी बाक़ी है 

दिल में तेरी तलब अभी बाक़ी है 

तू लौट के आयगा कभी उम्मीद है मुझे 

इसलिए जिस्म में मेरे अभी कुछ सांस बाक़ी है 

~ Aamir Wisal

 

Ishq palko pe jo din raat

Ishq palko pe jo din raat liye phirta hoon

Bas teri hi teri saugat liye phirta hoon

 

इश्क़ पलकों पे जो दिन रात लिये फिरता हूँ

बस तेरी ही तेरी सौग़ात लिये फिरता हूँ