Hindi shayari-Kabhi mushkile

कभी मुश्किलें कभी मंज़िले यहाँ ज़िन्दगी का उसूल है 

वो जो रोना कांटो का रोते हैं कभी फूलो को भी तो देखते 

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *