Hindi gazal-Mein khud bhi

Mein khud bhi kab ye kehta hoon koi sabab nahi

Tu sach hai mujhko chhod bHindi gazal-Mein khud bhihi de to koi ajab nahi

Wapas jo chaho jana to jaa sakte ho magar

Ab itni door aa gaye hum’ dekho ab nahi

Zar ka’ zaroorto ka’ zamane ka’ dosto

karte to hum bhi hai magar itna adab nahi

Mera khuloos hai to hamesha ke waaste

Tera karam nahi hai ki ab hai aur ab nahi

Aaye wo rozo shab ki jo chaahe thhe rozo shab

To mere rozo shab bhi mere rozo shab nahi

Duniya se kya shikayte logon se kya gila

Humko hi zindagi se nibhane ka dhab nahi

में खुद भी कब ये कहता हूँ कोई सबब नहीं 

तू सच है मुझको छोड़ भी दे तो कोई अजब नहीं 

वापस जो चाहो जाना तो जा सकते हो मगर 

अब इतनी दूर आ गए हम, देखो अब नहीं 

ज़ार का, ज़रूरतों का, ज़माने का, दोस्तों 

करते तो हम भी है मगर इतना अदब नहीं 

मेरा ख़ुलूस है तो हमेशा के वास्ते 

तेरा करम नहीं है की अब है और अब नहीं 

आए वो रोज़ो शब् की जो चाहे थे रोज़ो शब् 

तो मेरे रोज़ो शब् भी मेरे  शब् नहीं 

दुनिया क्या शिकायते लोगों से क्या गिला 

हमको ही ज़िन्दगी से निभाने का ढब नहीं 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *