Hindi gazal-Hamare dil mein

हमारे दिल में अब तल्खी नहीं है 

मगर वो बात पहले सी नहीं है 

मुझे मायूस भी करती नहीं है 

यही आदत तेरी अच्छी नहीं है 

बहुत से फायदे हैं मस्लेहत में 

मगर दिल की तो ये मर्ज़ी नहीं है 

हर एक की दास्ताँ सुनते हैं जैसे 

कभी हमने मोहब्बत की नहीं है 

है एक दरवाज़ा बिन दीवार जैसा 

मफर ग़मसे  यहाँ कोई नहीं है 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *