Emotional shayari soch raha hoon

Koi bhi Khayal aur koi bhi jazba

Koi bhi shay ho jaane usko

Pehle pehel aawaz mili thhi

Ya uski tasweer bani thhi soch raha hoon

Koi bhi aawaz lakeeron mein

Jo dhali thhi soch raha hoon

 

कोई भी ख़याल और कोई भी जज़्बा

कोई भी शय हो जाने उसको

पहले पहल आवाज़ मिली थी

या उसकी तस्वीर बनी थी सोच रहा हूँ

कोई भी आवाज़ लकीरों में

जो ढली थी सोच रहा हूँ

~ जावेद अख्तर

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *