Naraz ho kar yoon

Naraz ho kar yoon dekha karo na mujhko 

Hum dost hain tumhare dushman nahi hain hum

 

नाराज़ होकर यूं देखा करो ना मुझको 

हम दोस्त हैं तुम्हारे दुश्मन नहीं हैं हम 

Mujhse naaraz tum kaabhi mat hona

Mujhse naaraz tum kabhi mat hona 

Mere hokar kisi ka mat hona

Mar jayenge hum tere bina o sanam

Paas ho mere kabhi door mat hona

 

मुझसे नाराज़ तुम कभी मत होना 

मेरे होकर किसी का मत होना 

मर जायेंगे हम तेरे बिना ओ सनम 

पास हो मेरे कभी दूर मत होना 

~Aamir Wisal

Love shayari yoon naa rootha karo

+

 

Yoon na rootha karo jaan nikal jaati hai 

Tumko naaraz kar humko  neend kahan aati hai

Jo tumse bichadna pade mujhko kabhi 

Ye sochne se hi meri aankh bhar aati hai

 

यूं ना रूठा करो जान निकल जाती है 

तुमको नाराज़ कर हमको नींद कहाँ आती है 

जो तुमसे बिछड़ना पड़े मुझको कभी 

ये सोचने से ही मेरी आँख भर आती है 

 

Written by : Aamir wisal