Mujhpe kya beet rahi hai bataun kya

Mujhpe kya beet rahi hai bataun kya

Dil mein jo aag lagi hai dikhaun kya

Tu chali jaygi kuchh din mein chhodkar mujhko

Mein ab kisi bhi khushi ki khushi manaun kya

 

मुझपे क्या बीत रही है बताऊँ क्या

दिल में जो आग लगी है दिखाऊं क्या

तू चली जायगी कुछ दिन में छोड़ कर मुझको

मैं अब किसी भी ख़ुशी की ख़ुशी मनाऊँ क्या

~ आमिर विसाल

Bas ashq aankho me ab hai baaqi

Bas ashq aankho me ab hai baaqi

Din bhi niklega ummeed hai abhi baaqi

Ishq me humne bade dard sahe hain

Hogi mulaqat bhi ummeed hai abhi baaqi

बस अश्क़ आँखों में अब है बाक़ी

दिन भी निकलेगा उम्मीद है अभी बाक़ी

इश्क़ में हमने बड़े दर्द सहे हैं

होगी मुलाक़ात भी उम्मीद है अभी बाक़ी

~Aamir Wisal

Labon pe tishnagi abhi baaqi hai

Labon pe tishnagi abhi baaqi hai

Dil me teri talab abhi baaqi hai

Tu laut ke aayga kabhi ummeed hai mujhe

Isliye Jism me mere abhi kuchh saans baaqi hai

 

लबों पे तिशनगी अभी बाक़ी है 

दिल में तेरी तलब अभी बाक़ी है 

तू लौट के आयगा कभी उम्मीद है मुझे 

इसलिए जिस्म में मेरे अभी कुछ सांस बाक़ी है 

~ Aamir Wisal