Emotional shayari-Humne dekhe hain

Humne dekhe hain bade log is zamane mein

Chot  khai jinhone dil ke lagane main

Tum is ummed pe jee rahe ho shayad

Wo jaan de sakte hain rasm-e-mohabbat nibhane mein 

 

हमने देखे हैं बड़े लोग इस ज़माने में 

चोट खाई जिन्होंने दिल के लगाने में 

तुम इस उम्मीद पे जी रहे हो शायद 

वो जान दे सकते हैं रस्म-ए-मोहब्बत निभाने में 

Emotional shayari-Shikwa

Shikwa karenge tumse naa shikayat karenge hum 

Khone ke baad tumko paayein bhala to kya 

 

शिकवा करेंगे तुमसे ना शिकायत करेंगे हम 

खोने के बाद तुमको पाएं भला तो क्या 

Emotional shayari soch raha hoon

Koi bhi Khayal aur koi bhi jazba

Koi bhi shay ho jaane usko

Pehle pehel aawaz mili thhi

Ya uski tasweer bani thhi soch raha hoon

Koi bhi aawaz lakeeron mein

Jo dhali thhi soch raha hoon

 

कोई भी ख़याल और कोई भी जज़्बा

कोई भी शय हो जाने उसको

पहले पहल आवाज़ मिली थी

या उसकी तस्वीर बनी थी सोच रहा हूँ

कोई भी आवाज़ लकीरों में

जो ढली थी सोच रहा हूँ

~ जावेद अख्तर