Ahmad Faraz Sad Shayari-Two line

Tumhari ek nigaah se qatal hote hai log Faraz

Ek nazar hum ko bhi dekh lo ke tum bin zindagi achchi nahin lagti

तुम्हारी एक नज़र से क़तल होते हैं लोग फ़राज़

एक नज़र हम को भी देख लो की तुम बिन ज़िन्दगी अच्छी नहीं लगती